HANDS FOR CARE

UNITY FOR WORLD PEACE

  • WORK SCIENTIFICALLY PROVEN
  • UNITY FOR HUMENITY
  • LOVE TO HUMEN BEINGS

HANDS FOR CARE

UNITY FOR WORLD PEACE

  • WORK SCIENTIFICALLY PROVEN
  • UNITY FOR HUMENITY
  • LOVE TO HUMEN BEINGS

HANDS FOR CARE

UNITY FOR WORLD PEACE

  • WORK SCIENTIFICALLY PROVEN
  • UNITY FOR HUMENITY
  • LOVE TO HUMEN BEINGS

Hands For Care


About Us

वर्तमान में भारत भिखारिओं का गुरु है क्यूंकि लगभग 90 % आबादी विलुप्तप्राय है जो की लोकतान्त्रिक नवरत्नों लोकतान्त्रिक दसनन, आदर्श 33 मूल्यों से परिपूर्ण स्थापना नहीं केर सकते लगभग 3.62 % वेंटीलेटर पैर है लोकतान्त्रिक नवरत्नों लोकतान्त्रिक दसननो की सम्प्राप्ति के लायक है एवम 6% मृतप्राय है जो मात्र लोकतान्त्रिक दसननो की सम्प्राप्ति के लायक है।

Mission

भारत विश्वगुरु था आज भिखारियों का गुरु है इसके कारणों निवारणों की खोज कर भारत के विश्वगुरु के चिरस्थायी कारण का समाधान प्रस्तुत करना है ।

Vison

जब भारत में बौध शिक्षा पद्धति थी उस समय 7 साल का बच्चा विद्यालय का प्रांगण साफ करता था एक 20-22 साल के युवक ने कहा तुम छोटे हो लाओ मै साफ कर दूँ तो वह सात साल का बच्चा बोला जिस प्रकार प्रंागण गन्दा है। ऐसे ही संसार गन्दा है मै प्रंगण की तरह सम्पूर्ण संसार को साफ कर कूड़ा समन्दर

Objective

समय समय पर सांस्कृतिक कार्यक्रम, संगोष्ठी, विचार गोष्ठी ,सेमिनार ,सम्मेलन खेलकूद प्रतियोगिता, वादविवाद प्रतियोगिता, जागरूकता शिविर ,सामाजिक जागरूकता प्रर्दशिनी का आयोजन करना।

Goal

ऽ जड़ी बूटियो एवं प्रकृतिक वनौषधियों को उगाना एवं उनकी उपयोगिता के बारे में जानकारी देना तथा जड़ी बूटियों को लोगों में वितरित करना ।
ऽ कन्या भ्रूण हत्या एवं लिंग भेद को समाप्त करने के लिये”रजिस्टर्ड संवैधाकि विवाह“एवं सामूहिक विवाह कार्यक्रमों का आयोजन करना।
ऽ जनहितार्थ चिकित्सालय,अनाथालयों छात्रावासों ,व्यायामशालों ,विधवा आश्रमों वृद्धा आश्रमांे, वाचनालयों की स्थापना करना।

Target

भारतीय कृषि का जी॰डी॰पी॰में हिस्सा लगभग 10 प्रतिशत है जो 1952में 52.8प्रतिशत था ेनचचसल बींपद उंदंहमउमदज का अभाव है इसे म्.इनेपदमेे है के माध्यम से विकसित करना।
ऽ जब 1981 में भ्।छक्ै थ्व्त् ब्।त्म् का गठन हुआ था तो भारत के महान नगरों के लिए मोबाइल वैसा ही था जैसे 2015 मेंगावों केू लिए वेबसाइट एवं म्.इनेपदमेे है जैसे आज